परमवीर सिंह के लेटर ने उड़ा दिया अनिल देशमुख का तख्त

Spread the love

मुंबई : महाराष्ट्र के होम मिनिस्टर अनिल देशमुख ने  उच्च न्यायालय के निर्णय के बाद आज सीएम उद्धव ठाकरे को अपना त्याग पत्र सोप दिया है । (Home minister Anil deshmukh resignation) मुंबई के पूर्व पोलिस आयुक्त श्री परमवीर सिंह ने गृह मंत्री देशमुख पर 100 करोड़ रुपये का वसूली का आरोप करते हुए सीएम को लेटर लिखा था तब से विपक्ष एवम महाराष्ट्र की जनता का दबाव अनिल देशमुख पर था लेकिन आरोप होने के बावजूद उद्धव सरकार ने कोई  कारवाही नहीं की ।

MAHARASHTRA HOME MINISER RESIGNATION LETTER

आज समाज सेविका  जयश्री पाटील जी की  जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने अनिल देशमुक मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए साथ ही 15 दिन के अंदर कोर्ट मे प्राथमिक जांच रिपोर्ट सोपने के आदेश दिए है । आज सुबह  कोर्ट के इस निर्णय के बाद महाराष्ट्र के प्रतिपक्ष के नेता श्री देवेन्द्र फड़नवीस जी ने प्रेस कर के सरकार को घेरा  ओर उद्धव सरकार से पूछा की “पद पर रहते हुए सीबीआई जांच होना यह सविधिक नहीं है ओर श्री देसमुख को तत्काल प्रभाव से पद से हटाना चाहिए”।   आखिर उद्धव सरकार को विपक्ष के कड़े रुख के सामने झुकना पड़ा ।

राष्ट्रवादी काँग्रेस के दो वरिष्ट नेता की बैठक हुए इस बैठक मे पार्टी के अध्यक्ष श्री शरद पवार जी तथा उनके भतीजे एवम राज्य के उपमुख्यमंत्री श्री अजित पवार जी  जिसके बाद पार्टी के प्रवक्ता श्री नवाब मालिक ने पत्रकारों की इस बात की जानकारी दी की अनिल देशमुख सीएम को अपना त्याग पत्र सोप देंगे ।

क्या था परमवीर सिंह का लेटर बॉम्ब :

मुंबई के पूर्व पोलिस आयुक्त परमवीर सिंह ने अनिल देशमुख पर सचिन वाजे के साथ साँठ गांठ कर  मुंबई के 750 बार ओर पब से हर महीने 100 करोड़ रुपये के  वसूली का टारगेट देने की बात सीएम को खत लिख  कर दी थी ओर अदालत मे जनहित याचिका दायर की थी ।  परमवीर सिंग ने इस बात के वहाट्स अप चाट भी सीएम को भेजा था तथा अनिल देशमुख के घर के सीसी टीवी फुटेज जप्त करने की विनंती अदालत से की थी ।

NIA की हिरासत मे है सचिन वाजे

परमवीर सिंग ने 100 वसूली आरोप जिस पोलिस वाले पर लगाया है वह विवादित पोलिस ऑफिसर सचिन वाजे पहले ही अंबानी की घर सामने बॉम्ब प्लांट करने के आरोप मे 7 अप्रैल तक NIA की हिरासत मे है ।

 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.