गणेश स्थापना 2023 शुभ मुहूर्त पर ऐसे करे स्थापना घर ओर गणेश डेकोरेशन

गणेश स्थापना 2023 देश मे आज से 10 दिनों के लिए गणेश उत्सव 2023 की शूरवात हो चुकी है । हाला की आंध्र कर्नाटक ओर महाराष्ट्र मे कुछ जगह कल ही गणेश स्थापना की गयी लेकिन हम आप को आज सनातन हिन्दू  वैदिक पंचांग अनुसार श्री गणेश स्थापना 2023 का शुभ मुहूर्त बताएंगे । यदि अप को गणेश जी की मूर्ति स्थापित करने नहीं आती तो इस न्यूज को अंत तक पढे हम आप को श्री मूर्ति की स्थापना तथा स्थापना से पहेले घर ओर गणेश जी के अप्रतिम डेकोरेशन के बारे अच्छी जानकारी देंगे जिससे आप के गणेश उत्सव 2023 का आनंद द्विगुणित हो जाएगा । 

आगे बढ़ने से पहेले आप को जानकारी दे की इस बार गणेश उत्सव 10 दिन का है लेकिन कुछ स्थानिक पंचांग अनुसार लोग इसे 11 दिन भी मना रहे है कुन्की आज 19 सितंबर 2023 दोपहर तक ही गणेश स्थापना का शुभ मुहूर्त  है ।  ऐसे मे आप के मन मे प्रश्न  होगा कोणसा दिन सही है तो आप के मन की असमंजस स्थिति दूर करे कल 18 सितंबर से गणेश चतुर्थी का आरंभ हुवा है जो आज 19 सितंबर दोपहर 1.30 बजे तक चलेगी । इसी लिए कल जिन्होंने स्थापना की है वो भी सही है ओर आज का शुभ मुहूर्त कुछ इस प्रकार है । 

 

आज गणेश स्थापना का शुभ मुहूर्त 

मित्रों आज गणपति बप्पा की मूर्ति की स्थापना करने के लिए शुभ मुहूर्त का चयन करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह मान्यता है कि इससे पूजा की शुरुआत में भगवान गणेश की कृपा मिलती है। इसी लिए सनातन हिन्दू वैदिक पंचांग अनुसार हम खास आप के लिए आज का गणेश स्थापनाशुभ मुहूर्त 

19 सितंबर 2023 की सुबह 11 बजकर 7 मिनट से दोपहर 1 बजकर 34 मिनट तक का मुहूर्त वाक्यिक रूप से इस प्रकार होता है:

शुभ मुहूर्त: 19 सितंबर 2023
सुबह का समय:** 11:08  AM से
दोपहर का समय:** 1:32  PM तक

इस अवधि के दौरान आप गणपति बप्पा की मूर्ति की स्थापना कर सकते हैं और पूजा का आयोजन कर सकते हैं। ध्यान और श्रद्धा के साथ पूजा करने और भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए इस मुहूर्त का उपयोग करें ओर याद रखे की 1.32 मिनिट से पहेले गणेश स्थापना का पूरा विधि हो जाना चाहिए अगर आप को गणेश स्थापना करना नहीं आती तो आज हम इसे विस्तार से बताएंगे  लेकिन पहेले बात करते है घर ओर गणेश जी की सजावट पे । 

गणेश स्थापना से पहले ऐसे करे घर का डेकोरेशन

आज गणेश उत्सव 2023 के लिए अपने घर को सजाना एक आनंददायक और रचनात्मक प्रयास होता है इससे भावनात्मक खुशी ओर उत्साह मिलता है । भगवान गणेश को बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य के देवता के रूप में पूजा जाता है और उनका त्योहार भारत सहित पूरे विश्व में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। आए स्टेप बाइ स्टेप समझते है आप को गणेश स्थापना से पहले किस प्रकार अपने घर की सजावट कर गणेश जी का स्वागत करना है । 

1. रंगोली: अपने घर के प्रवेश द्वार पर रंगीन रंगोली डिज़ाइन बनाएं। जटिल पैटर्न और डिज़ाइन बनाने के लिए आप रंगीन चावल का आटा, फूलों की पंखुड़ियाँ, या रंगीन रेत का भी उपयोग कर सकते हैं। घर के साथ साथ आप गणेश स्थापना  की जगह पर श्री मूर्ति के सामने भी रंगोली से आकर्षक डिजाईन बनाए याद रखे आप नैसर्गिक कलर का ही उपयोग करे चायना रंगोली या कलर न खरीदे । 

2. गणेश मूर्तियाँ: अपने घर में केंद्रीय स्थान पर एक सुंदर ढंग से सजाई गई गणेश मूर्ति रखें। आप अपनी पसंद और बजट के आधार पर विभिन्न आकारों और सामग्रियों, जैसे मिट्टी, चांदी, या संगमरमर में से चुन सकते हैं। आगे हम जानेंगे की गणेश जी की सजावट कैसी करनी है । 

गणेश स्थापना 2023
गणेश स्थापना 2023

3. फूलों की सजावट: अपने घर को ताजे फूलों से सजाएं। गेंदे के फूलों, कमल की पंखुड़ियों और अन्य रंगीन फूलों से दीवारों, दरवाजों और गणेश की मूर्ति को सजाने के लिए किया जा सकता है। फूलों से सजी माला से तोरण भी आप लगा सकते है । 

4. दीया सजावट:  आकर्षक माहौल बनाने के लिए सजावटी मोमबत्तियों और दीयों (तेल के लैंप) का उपयोग करें। आप इन्हें मूर्ति के आसपास या अपने घर के विभिन्न कोनों में रख सकते हैं।

5. तोरण: अपने प्रवेश द्वार पर आम के पत्तों या फूलों से बना एक पारंपरिक तोरण (द्वार माला) लटकाएं। यह शुभता का प्रतीक है और आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का स्वागत करता है। आम तोर पर आम के पेड़ पत्ते का उपयोग कर तोरण बनाया जाता है यदि आप के पास नहीं है तो आप फूलों का उपयोग करे लेकिन  चीनी प्लास्टिक का तोरण न लागाए ये न सुगंध देता है नहीं परंपरा का अहसास ऊपर से पर्यावरण की हानी करता है । 

6. परी रोशनी: गणेश उत्सव और जीवंत माहौल बनाने के लिए अपने घर के चारों ओर परी रोशनी या सजावटी एलईडी लाइटें लगाएं दिए से सजाए ।

7. पारंपरिक सजावट: उत्सव के माहौल को बढ़ाने के लिए पारंपरिक भारतीय सजावट की वस्तुओं जैसे पीतल के लैंप, पीतल या चांदी की पूजा थाली और अगरबत्ती को शामिल करें।

8. सजावटी पर्दे: अपनी खिड़कियों और दरवाजों पर उत्सव का स्पर्श जोड़ने के लिए  रंगीन पर्दों का उपयोग करें याद रखे भगवा कलर सनातन हिन्दू धर्म की शान है ।

9. कलाकृति और पोस्टर: अपनी दीवारों पर भगवान गणेश और अन्य देवताओं की कलाकृतियां, पोस्टर, या फ़्रेमयुक्त चित्र लटकाएं या प्रदर्शित करें इससे 10 दिन तक घर मे उत्साह बना रहेगा ।

10. फल और मिठाइयाँ:  एक सजावटी ट्रे या प्लेट पर भगवान गणेश को प्रसाद के रूप में ताजे फल और पारंपरिक मिठाइयाँ जैसे मोदक, लड्डू और करंजी रखें।

11. संगीत और मंत्र:   शांत और आध्यात्मिक रूप से उत्थानकारी वातावरण बनाने के लिए भगवान गणेश को समर्पित भक्ति गीत और मंत्र बजाएं।

12.  शिल्प: अपने परिवार के साथ DIY शिल्प में संलग्न रहें, जैसे कागज या मिट्टी की गणेश मूर्तियाँ, सजावटी मालाएँ, या यहाँ तक कि हाथ से पेंट किए गए दीये बनाना।

गणेश उत्सव 2023 के दौरान साफ-सफाई और पवित्रता का ध्यान रखें। भक्तिभाव से पूजा-अर्चना और आरती करना जरूरी है। गणेश चतुर्थी केवल सजावट के बारे में नहीं है, बल्कि परमात्मा से जुड़ने और समृद्ध और सामंजस्यपूर्ण जीवन के लिए आशीर्वाद मांगने के बारे में भी है।     

गणेश जी का डेकोरेशन

गणेश स्थापना के वक्त गणेश मूर्तियों को सजाना गणेश चतुर्थी उत्सव का एक अनिवार्य हिस्सा है। आए विस्तार से जानते है गणेश स्थापना पहले गणेश जी की सजावट आखिर आप को कैसे करनी है । 

गणेश स्थापना 2023
गणेश स्थापना 2023

1. फूलों की माला:  गणेश प्रतिमा को सुंदर और सुगंधित फूलों की मालाओं से सजाएं। आप गेंदा, गुलाब, कमल या अपनी पसंद के किसी अन्य फूल का उपयोग कर सकते हैं। फूलों की सजावट पवित्रता और भक्ति का प्रतीक है साथ ही फूलों की खुशबू से घर मे 10 दिनों तक प्रसन्नता का महोल बना रहता है जो आत्मिक शांतता ओर आनंद देता है ।

2. कपड़े और आभूषण: गणेश स्थापना से पहेले आप गणेश जी की मूर्ति को भगवा वस्त्र पहना सकते है । आप रेशम, ब्रोकेड या अन्य समृद्ध कपड़ों का उपयोग कर सकते हैं। भगवान गणेश को हार, कंगन और मोतियों  से बने मुकुट जैसे गहनों से सजाएं।

3. चंदन का लेप: मूर्ति पर चंदन का लेप लगाएं। यह न केवल एक सुखद सुगंध जोड़ता है बल्कि शुद्धता और पवित्रता का भी प्रतीक है।

4. हल्दी और कुमकुम: मूर्ति के माथे, हाथ और पैरों को सजाने के लिए हल्दी और कुमकुम गुलाल  (सिंदूर) का उपयोग करें। यह देवता की पवित्रता को दर्शाता है।

5. नारियल और पान के पत्ते:  भगवान गणेश को प्रसाद के रूप में उसके ऊपर पान के पत्तों के साथ एक साबूत नारियल रखें। आप नारियल के चारों ओर लाल धागा भी लगा सकते हैं।

6. मोदक और मिठाइयाँ: प्रसाद के रूप में मोदक (गणेश की पसंदीदा मिठाई) और अन्य मिठाइयों की एक थाली रखें। थाली को फूलों की पंखुड़ियों और पत्तियों से सजाएं.

7. सजावटी छतरी: गणेश जी की शाही स्थिति और सुरक्षा के प्रतीक के लिए मूर्ति के ऊपर एक छोटी सजावटी छतरी रखें।

8. शुभ चिह्न: मूर्ति के शरीर पर प्राकृतिक रंग या कुमकुम का उपयोग करके ओम, स्वस्तिक और कमल जैसे शुभ चिह्न चित्रित करें।

9. सजावटी रोशनी: मूर्ति को सजावटी लैंप या दीयों से घेरें। आप देवता के चारों ओर जादुई चमक पैदा करने के लिए एलईडी रोशनी का भी उपयोग कर सकते हैं।

10. मोर पंख: आप गणेश जी के सर के ऊपर या पीछे बैक ग्राउन्ड मे मोर पंख लगा के श्री मूर्ति की शोभा बढ़ा सकते है ।

11. चावल और अनाज:  मूर्ति के चारों ओर रंगीन चावल या अनाज का उपयोग करके जटिल पैटर्न या रंगोली बनाएं। यह न केवल सुंदरता बढ़ाता है बल्कि प्रचुरता का भी प्रतीक है।

12. आम के पत्ते: पारंपरिक स्पर्श के लिए मूर्ति या वेदी क्षेत्र के चारों ओर आम के पत्तों (तोरण) की माला लटकाएं। माला मे आम के पत्तों के साथ फूलों का भी आवश्य उपयोग करे । 

13. पवित्र जल: स्थान को शुद्ध करने के लिए मूर्ति और पूजा क्षेत्र पर पवित्र जल या गंगा जल छिड़कें।

14. धूप और कपूर:  पवित्र और सुगंधित वातावरण बनाने के लिए पूजा के दौरान अगरबत्ती और कपूर जलाएं।

15. फल और फूल:  प्रसाद के रूप में मूर्ति के चारों ओर ताजे फल और फूलों के कटोरे रखें। आप केले के पत्तों को प्रसाद के आधार के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

16. कलात्मक सजावट:  यदि आपके पास कलात्मक कौशल है, तो आप मूर्ति को जटिल डिजाइन, पैटर्न या रूपांकनों से चित्रित या सजा सकते हैं मूर्ति के पीछे बैक ग्राउन्ड मे हस्त कला चित्र कला से आकर्षक डिजाइन बना सकती है ।

17. छोटे सजावटी सामान:  मूर्ति के पास छोटे सजावटी सामान जैसे लघु संगीत वाद्ययंत्र, किताबें, या शंख और चक्र जैसे पवित्र प्रतीक भी रख सकते है ।

याद रखें कि गणेश मूर्तियों को सजाने की कुंजी इसे भक्ति और श्रद्धा के साथ करना है। सुनिश्चित करें कि सजावट सौंदर्य की दृष्टि से मनभावन हो और पूजा और उत्सव के लिए एक शांत और पवित्र वातावरण बनाए। याद रखे कोई भी चीनी सामान सजावट के लिए नहीं लेना है चीन हमारा दुश्मन है अपने त्योहार से हमे देश की अर्थ व्यवस्था चलानी है न की चीन की । 

ऐसे करे गणेश स्थापना ओर पूजा 

गणेश चतुर्थी के अवसर पर ऊपर दिए हुए शुभ मुहूर्त गणेश स्थापना करना एक महत्वपूर्ण और पावन कार्य होता है। आए विस्तार से समझते है आज आप को गणेश स्थापना  कैसे करनी है । 

गणेश स्थापना 2023
गणेश स्थापना 2023

गणेश स्थापना ओर पूजा के लिए सामग्री:

1. गणेश मूर्ति (आप मिट्टी से मूर्ति बनाकर भी गणेश स्थापना कर सकते है )
2. पूजा के सामान जैसे कि पूजा थाली, दीपक, धूप, अगरबत्ती, अच्छर और कुंकुम
3. फूल, पत्तियां, फल (मोदक, लड्डू, करंजी आदि की पूर्व-स्थापना के लिए)
4. प्रासाद और भोग की चीजें
5. धारणा से उपयोगकर्ता की उपस्थिति

गणेश स्थापना प्रक्रिया:

1. आचमन:  पूजा की शुरुआत आचमन करके करें, आगे दिए हुए मंत्रों का उच्चारण करते हुए तीन बार पानी का घूंट लेकर आचमन किया जाता है: “ओम केशवाय नम:, ओम नारायणाय नम:, ओम माधवाय नम:।”

2. मूर्ति की स्थापना: गणेश की मूर्ति को पूजा स्थल पर स्थापित करें। मूर्ति को उनकी दिशा ईशान या उत्तर-पूर्व में स्थापित करें माना जाता है कि भगवान गणेश को उत्तर-पूर्व दिशा में रखने से आपके जीवन में सकारात्मकता, समृद्धि और सौभाग्य आता है। इसे परमात्मा के साथ संबंध स्थापित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए भी आदर्श माना जाता है कि आपके घर में ऊर्जा का प्रवाह सुचारू रूप से हो।

3. आवाहन:  मूर्ति को आवाहन करें, इसके लिए आप गणपति आवाहन मंत्रों का उच्चारण कर सकते हैं।

4. पूजा का आरंभ: मूर्ति के सामने पूजा थाली रखें और उसमें धूप, अगरबत्ती, दीपक, कुंकुम, गुलाल, और फूल रखें। सबसे पहले दिया जलाए 

5. अभिषेक: मूर्ति का अभिषेक करें, इसके लिए पानी, दूध, या पंचामृत का उपयोग कर सकते हैं। उसके बाद आप गणेश जी को गुलाल कुमकुम ओर फूल अर्पित करे 

6.  प्रार्थना:  आगे दिए मंत्र का उच्चारण कर आप गणेश स्थापना के वक्त गणेश जी से प्रार्थना करे 

“वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभा
निर्विघ्नं कुरु मे देवा सर्व-कार्येषु सर्वदा॥”

यह मंत्र भगवान गणेश को समर्पित है और उनका आशीर्वाद पाने और सभी प्रयासों में बाधाओं को दूर करने के लिए इसका जाप गणेश स्थापना  के वक्त किया जाना आवश्यक है ।

7. भोग और प्रासाद: गणेश भगवान को मोदक, लड्डू, करंजी, फल आदि के भोग के रूप में प्रसाद  में प्रस्तुत करें।

8. आरती: अंत में गणेश आरती का आयोजन करें यदि आप को आरती नहीं आती तो घबराए नहीं आप की इस समस्या का हल भी न्यूज 21 के पास है आगे दिए हुए लिंक पर क्लिक करे LINK यंहा आप को गणेश जी की 5 आरती मिलेंगी । 

9. पूजा की समाप्ति: पूजा के बाद गणेश जी के प्रति आपकी श्रद्धा और विश्वास के साथ ध्यान केंद्रित करें और अपने जीवन में खुशियों और सफलता की कामना करें। प्रसाद को उपस्थित भाविकों मे बाटे आप की गणेश स्थापना विधि पूरी हो चुकी है अप अगले 10 दिन सुबह शाम रोज पूजा ओर आरती करे 

गणेश स्थापना करते समय, ध्यान दें कि आपका मन पवित्र होना चाहिए और पूजा को समर्पितता और श्रद्धा के साथ करें। इस पूजा का महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह आपके घर में शांति, सुख, और समृद्धि लाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *