Immunity boosting foods in Hindi ऐसे बढ़ाए इम्यूनिटी

कोविड covid19 हो या अन्य वाइरल बीमारी इन सबसे लढने के लिए हमे बेहतर इम्यूनिटी यानि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने की जरुरत है। आयुर्वेद के अनुसार सर्दियों का सीजन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए बेहतर सीजन माना गया है। अब आप के मन मे यह प्रश्न जरूर आया होगा की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाए. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आप को कोई महेंगी मेडिसन या डॉक्टर की जरुरत नहीं है। आप अपनी डाइट मे कुछ चीजे शामिल कर के शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत कर सकते है. तो आज जानते है Best Immunity boosting foods in Hindi. 

 

स्वस्थ इम्यूनिटी  के लिए मानवी शरीर  की जरूरते 

मित्रों बेहतर इम्यूनिटी के लिए शरीर को कुछ चीजों की आवश्यकता होती है जो रोज के भोजन से हमे मिलने चाहिए।  तो पहले जानते है वो घटक जो हमे मजबूत इम्यूनिटी प्रदान करते है । 

  1. zinc झींक :  यूरोपीयनन  जनरल ऑफ इम्यूनोलॉजी के मुताबिक मानवी शरीर के इम्यूनिटी  लिए जिंक अति आवश्यक घटक है। मानवी शरीर जिंक को अपने आप नहीं बना सकता । यह सिर्फ बेहतर डाइइट से ही मिलती है ।  प्रति दिन वयस्क पुरषो के लिए  8 mg ओर  महिलाओ के लिए 11 मिलीग्राम zinc की आवश्यकता होती है जो हमे भोजन से मिलनी चाहिए । 
  2.  विटामिन सी : स्वस्थ इम्यूनिटी के लिए  दूसरा आवश्यक घटक है।  vitamin C 18 साल के उप्पर के सभी वयस्क के लिए 65 – 90 mg  विटामिन c भोजन के माध्यम से मिलने के जरुरत होती है । 
  3. vitamin E विटामिन E: 14 साल के उपर के सभी वयस्क महिला ओर पुरुषों को 14  mg विटामिन E डाइइट के जरिए आवश्यक है तथा गर्भवती महिला को 18  mg विटामिन E प्रति दिन भोजन से मिलनी चाहिए ।
  4. विटामिन D3:मानवी शरीर के लिए करीब 450 से 800 IU विटामिन D की जरुरत होती है जो बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली प्रदान करता है ।
  5. विटामिन B6 : पचास साल के नीचे वाले सभी पुरुषों को 1.3 मिलीग्राम विटामिन B6 की जरूरत होती है वही 50 साल के ऊपर के पुरुषों को 1.5 मिली ग्राम B6 भोजन से प्राप्त करने का सुझाव डॉक्टर देते है । महिला मे  बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए 1.7 मिलीग्राम विटामिन B6 भोजन द्वारा लेना  आवश्यक है ।

अब हमे उपरोक्त घटक सही मात्र मे देने वाले भोजन का चयन करना है जीसे हम Immunity boosting foods in Hindi प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने वाला भोजन  कहते है।

 

List of  best  Immunity boosting foods in Hindi

1 हल्दी 

हल्दी एक ऐसा मसाला है जिसका उपयोग मसलों  में किया जाता है।  कई पारंपरिक दवाओं में भी हल्दी  एक घटक है। इसका उपयोग हजारों वर्षों से एक दवा के रूप में किया जाता रहा है और साथ ही यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के साथ-साथ पाचन समस्याओं के इलाज के लिए भी उपयोगी है। हल्दी में कई स्वस्थ एंटीऑक्सिडेंट होते हैं और यह एंटीऑक्सिडेंट हल्दी को इतनी शक्तिशाली दवा बनाते हैं।

Immunity boosting foodsये एंटीऑक्सिडेंट प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं और शरीर को संक्रमण के प्रति अधिक प्रतिरोधी बनाते हैं। इसके अलावा, हल्दी का शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है क्योंकि यह शरीर को एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-वायरल यौगिकों का उत्पादन करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

हल्दी को अपने आहार में शामिल करने का सबसे आम कारण अपच और कब्ज जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं का मुकाबला करना है। यह मुख्य रूप से हल्दी में जिंक और विटामिन बी6 की उच्च सांद्रता के कारण होता है। उदाहरण के लिए एक चम्मच पिसी हुई हल्दी में 90 मिलीग्राम जिंक और 2 मिलीग्राम विटामिन B6 होता है।

टेक्सास विश्वविद्यालय के एक हालिया अध्ययन में पाया गया है कि हल्दी वास्तव में चूहों में स्तन कैंसर के विकास को रोक सकती है। मसाले में यह क्षमता हो सकती है क्योंकि यह कैंसर कोशिकाओं का पता लगाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को बढ़ाता है। इसी तरह के एक अध्ययन में पाया गया कि हल्दी कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने की शरीर की क्षमता को बढ़ाती है। अपने विशेष औषधी गुणों के लिए हल्दी यानि turmeric को बेहतरीन Immunity boosting foods

 

2  दही

इस सर्दी में आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए ताजा, कच्चा दही एक बेहतरीन तरीका है।
उनमें मौजूद प्रोबायोटिक्स पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करने में मदद करते हैं और मौसम ठंडा होने पर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को शीर्ष आकार में रखते हैं।
यह एक उत्कृष्ट प्रतिरक्षा बूस्टर है और इसमें शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूत करने की क्षमता होती है।
दही जिंक और विटामिन बी 12 जैसे पोषक तत्वों से भी भरा होता है,जो एक स्वस्थ तंत्रिका तंत्र को बढ़ावा देता है और आपके शरीर को फिट और ठीक रखने में मदद करता है। दही में भरपूर मात्रा में विटामिन और मिनरल्स होते हैं।

यह माना जाता है की एक कटोरा दही विटामिन बी12, विटामिन सी, विटामिन ए और विटामिन डी का एक आदर्श स्रोत होता है।
इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक और पोटेशियम भी होता है। शरीर को ठीक से काम करने के लिए विटामिन और खनिज आवश्यक हैं।
ये शरीर को बीमार होने से बचाते हैं और संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

3  केला 

केला सबसे लोकप्रिय खाद्य फलों  में से एक है जिसका लोग सेवन करते हैं। इनके कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। केला दुनिया के सबसे लोकप्रिय खाद्य पदार्थों में से एक है। वे पोटेशियम का एक बड़ा स्रोत हैं। सामान्य रक्तचाप को बनाए रखने और मांसपेशियों के संकुचन और विश्राम के लिए पोटेशियम की आवश्यकता होती है। केला  विटामिन सी  का एक महत्वपूर्ण घटक है।विटामिन- सी  सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन  एक महत्वपूर्ण कारक है। श्वेत रक्त कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली हैं।

 

केले में  विशेष रूप से विटामिन ए और विटामिन बी 6 होते हैं, जो प्रतिरक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन हैं। विटामिन बी6 भी तंत्रिका तंत्र के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। केले के नियमित सेवन से आप अपने शरीर को प्रतिरोधक क्षमता बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, केले में पोटेशियम, मैंगनीज, मैग्नीशियम, फास्फोरस  जैसे पोषक तत्व भी होते हैं।

कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि विटामिन सी आम सर्दी से लड़ने में मदद करता है; वे आपकी त्वचा के लिए भी बहुत अच्छे हैं।

इम्यूनिटी बूस्टर सिरप को जानने के  लिए यंहा क्लिक करे

4  आंवला

आंवला फल एक समृद्ध खजाना है जिसका उपयोग सदियों से आयुर्वेद चिकित्सकों और अन्य पारंपरिक दवाओं द्वारा किया जाता रहा है जो प्रतिरक्षा को बढ़ाने में प्रभावी पाए गए हैं। आंवला फल के कुछ स्वास्थ्य लाभों में इसके एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-एजिंग, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-कैंसर, एंटी-डायबिटिक और वजन घटाने के गुण शामिल हैं।

इसके अलावा, आंवला का उपयोग त्वचा की स्थितियों जैसे सोरायसिस, एक्जिमा और डर्मेटाइटिस के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। इसका उपयोग मधुमेह और उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

आंवला में केले की तुलना में 3 गुना  अधिक विटामिनA, बी कॉम्प्लेक्स और E है , और 10x गुना  से अधिक खनिज होते हैं। एक मध्यम आंवला फल में   दैनिक  मात्रा का लगभग विटामिन ए 10%, विटामिन सी का 1%,  विटामिन B1 12%, विटामिन B2  20%, नियासिन का 1%, पैंटोथेनिक एसिड  30% होता है।

साथ ही आंवला मे विटामिन B6, 10% फोलेट, और 10% कैल्शियम और मैग्नीशियम  भी होता है । आंवला फल में  जिंक भी भरपूर मात्रा में होता है। स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य का समर्थन करने के लिए इन आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है ।

5  मोरिंगा ओलीफेरा / सहजन 

मोरिंगा ओलीफेरा जिसे  हिंदी मे  सहजन के पेड़ या सहिजन के पेड़ के रूप में भी जाना जाता है. एक ऐसा पौधा है जो भारतीय उपमहाद्वीप का मूल निवासी है। इसका उपयोग सदियों से पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता रहा हैविशेष रूप से सहजन इसके पोषण लाभों के लिए जाना जाता है। इस  के पत्ते विटामिन और खनिजों की उच्च सांद्रता के कारण विशेष रूप से पौष्टिक होते हैं। पत्तियों में लगभग सभी आवश्यक अमीनो एसिड और विटामिन होते हैं, और वे एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने वाला फल मोरिंगा के पत्ते में रेड मीट की तुलना में अधिक प्रोटीन होता है। यह मोरिंगा को कृषि में उपयोग के साथ-साथ खाद्य उत्पादों के लिए एक उत्कृष्ट उम्मीदवार बनाता है।मोरिंगा अपने औषधीय गुणों के लिए  जाता है; इसका उपयोग अवसाद से लेकर कैंसर तक कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए किया गया है; यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में भी प्रभावी है।

 

6 मखाना lotus seed

जिसे कमल के बीज के रूप में भीजानते  है। एक ऐसा बीज है जो आमतौर पर भारतीय पारंपरिक चिकित्सा में उपयोग किया जाता हैमखाने के लाभ व्यापक हैं, और इनका उपयोग थकान, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्त शर्करा सहित कई सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

मखना  में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करते हैं, जो संक्रमण से लड़ने के लिएमाना जाता है कि मखना मे  इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं। इसका उपयोग गठिया, बुखार और श्वसन संबंधी विकारों के उपचार में किया गया है।

 

7  कटहल jackfruitImmunity boosting food jack fruit

 

एक छोटा फल है जो उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में उगता है।यह आमतौर पर आयुर्वेद में बुखार, खांसी और गठिया जैसी कई बीमारियों के इलाज में प्रयोग किया जाता है।यह भी माना जाता है कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है। कटहल के बीजों का उपयोग अफ्रीकी, एशियाई और दक्षिण अमेरिकी देशों में भी किया जाता है।

8 देसी गाय का घी 

घी एक स्पष्ट मक्खन है जो आवश्यक फैटी एसिड और विटामिन के साथ अत्यधिक संतृप्त होता है।  इसे कैलोरी का एक शक्तिशाली स्रोत बनाता है और अक्सर भारतीय व्यंजनों में खाना पकाने के माध्यम के रूप में उपयोग किया जाता है। देसी गाय का घी एक पारंपरिक इम्युनिटी बूस्टर है। जो प्रतिरक्षा में वृद्धि, के साथ आंतरिक अंगों के लिए भी अच्छा है।

9  फर्मनटेड फूड / किण्वित भोज

fermented food as Immunity boosting foods

अच्छी immunity के लिए ये चीजे है जरूरी

फर्मनटेड फूड यह एक खाद्य पदार्थ की प्रक्रिया जीसे हम हिंदी मे किण्वित भोज या आम्लीय भोज कहते है
किण्वित भोजन वो भोजन होता है  जिस  मे लैक्टोफेरमेंटेशन की प्रक्रिया के माध्यम से प्राकृतिक बैक्टीरिया शुगर  पर फ़ीड करते हैं और लैक्टिक एसिड बनाने वाले भोजन में स्टार्च होता है।
यह प्रक्रिया भोजन को संरक्षित करती है। 

फर्मनटेड फूड मे  लाभकारी एंजाइम, बी-विटामिन, ओमेगा -3 फैटी एसिड और प्रोबायोटिक्स के विभिन्न उपभेदों का निर्माण करती है। फर्मनटेड फूड  में पाए जाने वाले विटामिन बी 12 और अन्य पोषक तत्वों की मात्रा को 40 से 50 गुना तक होती   है।यह प्रक्रिया भोजन की पोषण संरचना को भी बदल देती है।
ऐसा इसलिए है क्योंकि लैक्टोबैसिलस बैक्टीरिया भोजन में कार्बोहाइड्रेट को लैक्टिक एसिड में बदल देता है जो भोजन के पीएच को कम करता है।
इससे भोजन अधिक अम्लीय हो जाता है जो पेट के लिए महत्वपूर्ण है।

किण्वित खाद्य पदार्थों मे  इडली,दोसा किमची, अचार गोभी, टेम्पेह, मिसो, दही, सौकरकूट, खट्टी रोटी, ओर बीयर शामिल हैं।
कुछ किण्वित खाद्य पदार्थ उनकी तैयारी और पोषण सामग्री के आधार पर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में कम या ज्यादा प्रभावी हो सकते हैं।
कुछ सबसे प्रसिद्ध किण्वित खाद्य पदार्थों में बीयर, किमची और मसालेदार गोभी शामिल हैं।
किण्वित खाद्य पदार्थों में बी विटामिन, जिंक और प्रोबायोटिक्स के उच्च स्तरपर  होते हैं।

 

आप के  भोजन मे इन Immunity boosting foods को शामिल कर के आप अपनी immunity जीसे हम हिंदी मे प्रतिरक्षा प्रणाली कहते है मजबूत कर सकते हो । याद रखे जो डाइट आप ले रहे हो वो रसायन मुक्त खेती से यानि organic farming से होने चाहिए। पेस्टिसाइड वनस्पति एवम खाद्य पदार्थ के औषधी गुणों को खत्म कर देता है।  अच्छी डाइट  के साथ प्रतिदिन 4 km वॉक आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने मे उपयुक्त होगी। 

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *